Shrimad Bhagwat Katha is the gate to all the happiness in Kalyug – Pujya Shri Devakinandan ji Thakur Maharaj is in Mumbai from December 15, A 7-day Bhagwat Katha organized

By on 12-16-2019 in Religious News

Shrimad Bhagwat Katha is the gate to all the happiness in Kalyug – Pujya Shri Devakinandan ji Thakur Maharaj is in Mumbai from December 15, A 7-day Bhagwat Katha organized

श्रीमद भागवत कथा ही कलयुग में समस्त सुखों का द्वार है – पूज्य श्री देवकीनंदन जी ठाकुर महाराज l 15 दिसंबर से मुंबई में है 7 दिवसीय भागवत कथा का आयोजन l

वैदिक संस्कार व धार्मिक मूल्यों के प्रचार प्रसार के लिए श्रीमत भागवत कथा का आयोजन पूरे विश्व में किया जाता है l भक्त शिरोमणि श्री देवकीनंदन जी ठाकुर महाराज ने पिछले एक दशक से भूमण्डल घूम घूम कर प्रभू श्रीकृष्ण की महिमा जन जन तक सुनाई है l लाखों करोड़ों श्रद्धालु ठाकुर जी महाराज के प्रवचनों के लिए उमड़ पडती है l

दिसंबर 15 दिसंबर से वाणिज्य नगरी मुंबई में हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी विश्व शांति सेवा समिति के तत्वध्यान में पूज्य कथावाचक श्री देवकीनंदन जी ठाकुर महाराज के श्रीमुख से श्रीमद भागवत कथा आयोजित की जा रही है l

15 दिसंबर दोपहर 12 बजे से हज़ारों महिलाओं द्वारा कलश यात्रा सपतेसर सालासर धाम मंदिर से निकालकर कथा स्थल ‘बाळासाहेब ठाकरे मैदान, इन्दरलोक फेस 3,  भायंदर पूर्व तक जायेगी l

उपरांत पूज्य ठाकुर जी महाराज द्वारा दिनांक 15 से 23 दिसंबर तक प्रभू कृष्ण भगवान के अलग अलग जीवन प्रेरणादायी घटनाओं का का वर्णन किया जायेगा l

श्रीमद भगवत गीता कथा के दौरान श्री महाराज कृष्ण जन्म से लेकर श्रीकृष्ण की अनेकों बाल लीलाओं का वर्णन भक्तों कोई श्रवण कराएंगे l भागवत कथा के प्रारम्भ में आरती व विश्वशान्ति के लिए प्रार्थना की जाएगी l

महाराज श्री ठाकुर जी का कहना है – आपके दुख का कारण दुनियां से आपका बंधन है, पूरे संसार में आपको सुख केवल ठाकुर जी यानी भगवान श्रीकृष्ण ही दिला सकते है l

कथा में आने के किये सिर्फ मुंबई के ही नहीं वल्कि महाराष्ट्र के अन्य भागों से व गुजरात से भी लोग हज़ारों की मात्रा में कथा स्थल पर पधारे हुए है l भीड़ देख कर प्रशासन ने भी पुख्ता इंतज़ाम किए है l इन सात दिनों में जो हर्ष उल्लास से श्रीकृष्ण लीलाओं का वर्णन होगा आपको कई टीवी चैनलों के माध्यम से लाइव मिलता रहेगा l

Print Friendly, PDF & Email